अपनी मेहनत की कमाई Inspirational Story in Hindi

सभी पाठको को नमस्कार, जी हाँ दोस्तों जब हम छोटे होते है तो हमे ये पता नहीं होता है की नैतिक कहानी – अपनी मेहनत की कमाई, क्या चीज होती है लकिन जैसे-जैसे बड़े होते है हमारे माता-पिता इस बात का अहसास कराते है नैतिक कहानी अपनी मेहनत की कमाई.

आज में यहाँ एक ऐसी कहानी बताने जा रहा हूँ जिसे पढ़ कर आप को मेहनत की कमाई का सही अंदाजा चल जायेगा.

वैसे तो बहुत सारे लोगो को सही पता भी होगा मगर में इस लेख को इस लिए आपके सामने रख रहा हूँ ताकि जिन्हे नहीं पता है ये उनकी Help करेगा.

एक पिता का जवान बेटा नकारा था सारा दिन कुछ नहीं करता और पैसे को पानी की तरह बहता था इससे उसके पिता बहुत परेशान थे.

जब कोई रास्ता नहीं दिखा तो तंग आकर पिता ने ऐलान कर दिया की आज से तुझे खाना तभी मिलेगा जब तू 100 रुपये मेहनत करके कमायेगा और मुझे लाकर देगा.

अपने नाकारा बेटे को माँ ने चुपचाप 100 रुपये दे दिये और कहा शाम को आकर अपने पिता जी से बोल देना की मैंने कमाये है.

जब शाम को लडका घर आया तो पिता को 100 रूपये दिखायें इस पर पिता ने कहा इस नोट को नाली में फेँक आओं लडका तुरंत 100 रूपये के नोट को नाली मे फेंक आया पिता समझ चुका था की ये इसकी मेहनत की कमाई नही.

लड़के के पिता ने अपनी पत्नी को कुछ दिन के लिए मायके भेज दिया ताकि वो बेटे की मदद ना कर सके फिर एक दिन बेटे को 100 रुपये कमाकर लाने को कहा तो लडके के पास मेहनत करके कमाने के अलावा कोई दूसरा चारा नहीं था.

शाम को वो जब 100 रुपये कमाकर घर लोटा तो उसके पिता जी नें फिर से उस नोट को नाली मे डालने को कहा तो इस बार लडके ने साफ मना कर दिया और कहा ये मेरी कमाई के पैसे है.

लड़के ने नोट इसलिए नहीं फेंका क्यो की आज उसे इस नोट की कीमत पता चल गयी थी, की मेहनत की कमाई क्या होती है.

मेरी उन सभी पाठको से विनती है जो लोग पैसे को पानी की तरह बहाते है वो ऐसा न करे अपना पैसा सही काम में लगाये. धन्यवाद

कैसी लगी आपको ये नैतिक कहानी अपनी मेहनत की कमाई कहानी हमे कमेंट करके जरूर बताये ताकि हमे पता लग सके की हमे और कहा improvement की जरुरत है. आपकी टिप्पणी के लिए आपको धन्यवाद रहेगा!

Free subscription ले जिससे की आप हमारी हर एक पोस्ट से कनेक्ट रहे.

Vipin Lambha

Hello everyone, I am an Entrepreneur with Startup & Digital Media expert by profession and passionate for Blogging.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *