Today is Best Day एक दिन की तलाश ख़त्म

हेलो फ्रेंड्स, में शुभम लम्भा आज 2017 में सक्सेसइनहिंदीडॉटकॉम पर पहली पोस्ट लेकर हाजिर हूँ आशा करता हूँ आपको बहुत पसंद आयेगी और आपको एक नई energy प्रदान करेगी आज में बात करूँगा Today is Your Best Day in Hindi एक दिन की तलाश ख़त्म.

स्टार्ट करने से पहले में आपसे कुछ बात करना चाहता हूँ अगर में बात करू आज से थोड़े टाइम पहले की मुझे भी ये समझ नहीं आ रहा था की इंसान की जिंदगी का सबसे best day कौनसा होता है आज जो real story आज में आपके लिए लाया हूँ वो आपको clear कर देगी.

Today is best day आज ही सबसे अच्छा दिन है

आज में आपसे उस एक दिन की बात करने जा रहे हैं जो आपके लिए success का दिन है एक खुशी का दिन है एक जश्न का दिन है और ये आपका अपना दिन है.

मैं भी दूसरे लोगो की तरह पिछले कुछ सालों से एक दिन तलाश कर रहा था जिसमें कुछ सीख पाऊं और कुछ ऐसा कर जाऊं की सफल होकर बड़ा आदमी बन जाऊ लेकिन मिल ही नहीं रहा था कोई option.

मैं हर रोज जागता और जो बीत गया उसी को सोचने लगता कभी-कभी सोचते हुए मेरे दिमाग की नसे भी दुखने लगती और मुझे सिवाय निराशा के कुछ हाथ नहीं लगता था.

मैं हर रोज उसी खोज में निकलता अपना वक्त बर्बाद कर थक हार कर वापस लौटता… importance of time कभी नहीं समझा और उस दिन की खोज में लगा रहा जिसे आज कहते हैं.

कल तक मेरी जिंदगी में वही सब चल रहा था पर आज मुझे hike Daily पर एक quote मिला जिसमें लिखा था Everyday is a second chance.

इस quote ने मेरे दिमाग में खलबली मचा दी क्योंकि जिसके बारे में सोच-सोच कर अपना समय क्यों बर्बाद कर रहा था, कर रहा हूँ जो मैंने खो दिया जबकि मेरे पास आज एक नया Chance है.

इस जीवन में कुछ करने का, कुछ सीखने का, क्योंकि जो बीत गया उसे कोई नहीं बदल सकता लेकिन मैं अपने आज में कुछ करके, आज कुछ सीख कर अपने उस bad past को bright future में बदल सकता हूं.

जब तक हमे यह समझ नहीं आयेगा की हमारे पास सिर्फ आज है जिसे हम best day कहते है तब तक हम निराश ही रहेंगे उदास रहेंगे और आलस्य के शिकार रहेंगे.

जैसे ही ये सच्चाई आपको मालूम होगी आप एक ताजगी का अनुभव करेंगे और कुछ कर गुजरने के एक उत्साह का अनुभव करेंगे और दिमाग में यह बात रहेगी कि जैसे हम इस दुनिया में आये थे वैसे गुमनाम होकर नहीं जायेंगे कुछ कर दिखाना है.

एक चमकती पहचान छोड़कर जायेंगे एक नाम छोड़कर जायेंगे और उन सबके लिए जो हमें प्यार करते हैं उनके लिये एक proud छोड़कर जायेंगे लेकिन उसकी शुरुआत हमें अपने आज से करनी होगी अभी से करनी होगी.

मैं आज सभी से एक बात कहना चाहूंगा यह जो आज है वो बहुत महत्वपूर्ण है आप जो कर सकते हैं अपने इस आज में कर सकते हैं क्योंकि जो बीत गया दुनिया में ऐसी कोई ताकत नहीं जो बीते हुये कल में जाकर सुधार कर सकें और future किसी ने देखा नहीं है सिर्फ एक आईडिया लगाया जाता है.

कुछ करना है आज और अभी करे क्योंकि मालूम हुआ, आने वाले कल में कोई ऐसा काम निकल गया जिसकी priority पिछले काम से ज्यादा है और उसे ही पूरा करने में सारा समय निकल गया तो जो काम आपने अपने कल पर छोड़ा था वह परसो पर चला गया और वह ऐसे ही चलता रहेगा कभी पूरा नहीं होगा.

आपको एक बहुत अच्छा example लेकर समझने की कोशिश करता हूँ, पांडवों के राज्य में सभी सुखी थे सभी को न्याय मिले ऐसा सोच कर युधिष्ठिर ने महल के सामने एक बहुत बड़ा नगाड़ा रखवा दिया और कहा जब किसी भी व्यक्ति को कोई कष्ट हो तो वह नगाड़ा बजा दे जिससे हमे पता चल जाये उसकी फरियाद तुरंत सुनी जायेगी.

एक दिन पांचो पांडव राज महल के बगीचे में टहल रहे थे उसी समय नगाड़ा बजा युधिष्ठिर ने भी द्वारपाल को आज्ञा भिजवाई कि नगाड़ा बजाने वाले को अंदर आने दिया जाये कुछ देर बाद एक बूढ़ा ब्राह्मण लंगड़ाता आ खड़ा हुआ.

युधिष्ठिर ने उनसे उनका कष्ट पूछा तो उन्होंने बताया कि मुझे अपनी इकलौती बेटी की शादी करनी है परसों ही बारात आने वाली है मेरे पास धन के नाम पर एक फूटी कौड़ी तक नहीं है.

तब युधिष्ठिर ने कहा मेरे राज्य में तुम इतने गरीब हो कर रह रहे हो इसका मुझे अफसोस है तुम्हारी बेटी हमारी बेटी है चिंता नहीं करो आराम से घर जाओ सुबह आकर खजाने से मुंह मांगा रुपए ले जाना इतना सुनकर बूढ़ा आदमी खुश होकर घर चला गया.

अचानक कुछ देर बाद भीम वहां से चले गये युधिष्ठिर को उसका ध्यान नहीं था नगाड़ा फिर बज उठा उसकी आवाज इतनी तेज थी की सभी पांडव महल की छत पर उत्सुकतावश जा पहुंचे वे सभी सोच रहे थे कि तेजी से नगाड़ा कौन बजा रहा है.

चारों पांडवों ने हैरानी से देखा कि नगाड़ा बजाने वाले भीम खुद हैं युधिष्ठिर ने हैरानी से पूछा “भीम मेरे भाई तुम्हारे साथ क्या अन्याय हुआ है” तुम्हें मेरे शासन में क्या दुख है.

भीम ने सिर नीचा करके उत्तर दिया अन्याय मेरे साथ नहीं उस ब्राह्मण के साथ हुआ है जिसे आपने कल सुबह रुपया देने को कहा है युधिष्ठिर ने पूछा यह कैसे?

तब भीम बोले धर्मराज युधिष्ठिर आप यह भूल गये कि जीवन का एक-एक पल कीमती है हममें से कोई नहीं जानता कि किसका जीवन कब और किस समय समाप्त हो जाये ब्राह्मण के जीवन का क्या भरोसा है उसे तुरंत रुपया न देकर कल सुबह रुपया देने को बुलाया है यही अन्याय मेरी समझ नहीं आया.

युधिष्ठिर ने भीम को गले से लगा लिया और कहा तुमने आज मुझे एक बहुत बड़ी गलती से बचा लिया और यह कहकर उसी समय ब्राह्मण को मुंह मांगा रुपए दे दिया.

आप सभी ने कबीर जी का वह दोहा तो सुना ही होगा “जो कल करे सो आज कर, आज करे सो अब पल में प्रलय होयेगी बहोरि करेगा कब”

दोस्तों मैं जो आपसे बताने की कोशिश कर रहा हूं कि हम सब हर रोज जिस दिन को ढूंढने निकलते हैं जिसमें खुशी हो कामयाबी मिले proud feel हो वो कोई और दिन नहीं आज ही का दिन है.

बस रुककर एक नजर उसे देखो तो वह मुस्कुराये आपके साथ खड़ा है उसे पहचानो तो वह हर मोड़ पर आपका साथ देने तैयार खड़ा है कुछ सीखो तो कुछ करो तो, वह आने वाले समय में आपके लिए बहुत सम्मान लिए खड़ा है उसे महसूस तो करो वह आपके मुस्कुराने की वजह लिए खड़ा है.

“Enjoy your life today because yesterday had gone and Tomorrow Never Come”

अगर आपको यह स्टोरी पसंद आई तो आज अपने आप से एक वादा कीजिए कि आप हर सुबह उठकर एक work to do list बनायेंगे और सारे task complete करके ही सोयेंगे चाहे एक घंटा कम सोना पड़े.

कैसी लगी Today is Your Best Day in Hindi एक दिन की तलाश ख़त्म, ये स्टोरी आप मुझे कमेंट करके जरूर बताये ताकि मुझे motivation मिले और में आपके लिये आगे कुछ एससी तरह की कहानी लाता रहू. धन्यवाद

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.