प्रेम की महिमा Glory of Love Best Moral Story

नमस्कार दोस्तों, स्वागत है आपका सक्सेस इन हिंदी के मंच पर… जो कहानी आपके साथ शेयर करने जा रहें है वो आपके जीवन में बहुत बड़ा बदलाव ला सकती है Best Moral Story प्रेम की महिमा. एक ऐसी मोरल स्टोरी जो आपको बहुत ही प्रभावित करेगी.

इस कहानी से सिद्ध होता है कि प्रेम नाम का रस एक ऐसा रस है जिसके द्वारा किसी भी काम को आसान बनाया जा सकता है व किसी भी समस्या को सुलझाया जा सकता है… तो चलिए कहानी को शुरू करते है, बहुत समय पहले की बात है घने जंगल में एक भेड़िया रहता था आस-पास के इलाके में उसका आतंक छाया हुआ था वंहा जाने का साहस कोई भी नहीं करता था वह अनेक मनुष्यों और जानवरों को मार चुका था.

जब भेड़िये से सब लोग बहुत परेशान हो गए और कोई भी रास्ता नजर नहीं आया कि क्या किया जाये, अंत में उस शहर के एक महान संत फ्रास्वा ने उस भयानक जानवर का सामना करने कि सोची और इतना फैसला करके वे शहर से बाहर निकले तो उनके पीछे वहा के स्त्री और पुरुषों की बहुत भीड़ उनके साथ-साथ चल पड़ी.

ये भी पढ़ें: हार्ड वर्क सफलता की कुंजी होती है

जब संत जंगल के समीप पहुंचे वैसे ही उस भेडिये ने उनकी तरफ रुख किया और उनकी और हमला करने के लिए लपका, संत ने उसकी और एक शांतिपूर्वक ऐसा संकेत किया कि भेड़िया ठंडा होकर संत के पैरो के पास ऐसे लेट गया जैसे कोई भेड़ का बच्चा हो, तभी संत ने उसे संबोधित किया और कहा कि देख भाई तूने इस शहर को बहुत हानि पहुंचाई है इसलिए इस शहर के लोग तुमसे बहुत नाराज रहते है.

संत ने कहा यदि तेरे और इस शहर में जितने भी लोग रहते है उनके बीच मित्रता हो जाये तो मुझे बहुत ख़ुशी होगी इस बात को सुनकर भेडिये ने अपना सिर झुका लिया और पूँछ हिलाने लगा और संत का कहा मान लिया. भेड़िये कि ये बात संत को पसंद आई और कहा, देख भाई मैं प्रतिज्ञा करता हूँ कि अगर तू इस शहर लोगो के साथ शांतिपूर्वक रहना स्वीकार करता है. तो ये लोग भी तेरे साथ बेहद अच्छा बर्ताव करेंगे और साथ ही तेरे लिए खाने की भी व्यवस्था कर देंगे क्या तू ये प्रतिज्ञा करता है.

संत कि बात सुनकर भेडिये ने अपना सिर पूरी तरह झुका लिया और संत के हाथ पर अपना पंजा रख दिया. संत भेड़िये को शहर के बीचो बीच ले गये और सबके सामने एक बार फिर भेडिये से ये बात कही तो भेडिये ने पहले की तरह संत के हाथ पर हाथ रख दिया, और उसके बाद वो भेड़िया दो साल तक उस शहर में रहा और उसने किसी को कोई हानि नहीं पहुंचाई इस पर उसके मरने पर भी लोगों को बहुत दुःख हुआ.

ये भी पढ़ें: व्यक्तिगत विकास के लिए, शिक्षाप्रद स्टोरी

भेड़िये को इतना बदलते हुए देख शहर के लोग हैरान थे कि ऐसा खूंखार/खतरनाक जानवर ने अपनी प्रवृति किस तरह बदल ली जोकि हमे इतना परेशान करता था. उसे जिसने बदल दिया उसके अंदर एक चीज़ थी ये किसी ने नहीं जाना ये तो संत फ्रांस्वा का प्रेम पूर्ण बर्ताव था भेड़िये के साथ जिसने उसे बदल दिया और प्रेम की महिमा इसी को तो कहते है.

जब एक जानवर बदल सकता है तो इंसान क्यों नहीं, इस Moral Story से हमे सीख मिलती है कि किसी भी बुरे इन्सान को हम प्रेम की महिमा का पाठ पढ़ा कर ही उसे बदल सकते है हम उसे अपने अच्छे बर्ताव से भी बदल सकते है. पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद

Vipin Lambha

Hello everyone, I am an Entrepreneur with Startup & Digital Media expert by profession and passionate for Blogging.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *