Honesty and Truth Inspirational Story ईमानदारी और सच्चाई की दौलत

जी हाँ दोस्तों इस दुनिया में सबसे बड़ी दौलत 💰 आप की अपनी ईमानदारी और सच्चाई की दौलत है अगर किसी आदमी के पास कितनी भी दौलत, power हो honesty and truth बिल्कुल ना हो तो वो आदमी इस दुनिया का सबसे गरीब इंसान है. 

honesty and pride inspirational story

      Honesty and Truth

कुछ लोग की life में पैसा 💵 ही सब कुछ होता है वो लोग पैसे को इतनी बड़ी value देते हैं जैसे money के अलावा उनकी निजी जिंदगी में किसी और चीज की कोई कीमत ही न हो. 

लेकिन दोस्तों मैं आप से एक निवेदन करना चाहता हूं अगर आप को इस संसार में ऐसा कोई काम करना है जिसके लिए लोग आप को याद करें तो पैसे को ही महत्व ना दे. 

साथ ही साथ में यह भी कहना चाहता हूँ की पैसा भी जरूरत की चीज है अगर आप को satisfaction life चाहिए तो उसके लिए बहुत सारे रुपये की जरूरत होती है. 

यहां आपको दोनों तरफ ध्यान देने की कोशिश करनी चाहिए जिससे आपकी relationship अौर पैसों दोनों का balance बना रहे. 

एक एेसी inspiration कहानी आपके साथ share करने जा रहा हूँ जिसे पढ़कर आपको लगेगा कि पैसा ही सब कुछ नहीं होता है अपनी honesty और truth भी कोई महत्व रखती है. 

ये कहानी बहुत time पहले की है मुसलिम देश सऊदी अरब में बुखारी नामक एक बहुत बड़ा विद्वान रहता था वह अपनी ईमानदारी के लिए बहुत मशहूर था एक बार की बात है बुखारी कही यात्रा के लिये घर से चल दिए. 

यात्रा समुद्री जहाज के रास्ते से करनी थी उन्होंने खर्च के लिए एक हजार दीनार one thousand dinar अपनी पोटली में बांध कर रख लिए यात्रा के दौरान जहाज मैं बुखारी की पहचान दूसरे यात्रियों से हुई बुखारी उन्हें ज्ञान की बातें थे जिससे सबका समय अच्छा निकल रहा था. 

एक यात्री से उनकी नजदीकियां कुछ ज्यादा बढ़ गईं एक दिन बातों-बातों में बुखारी ने उसे दीनार की पोटली खोलकर दिखा दी उस यात्री के मन में लालच आ गया उसने बुखारी की पोटली हथियाने की योजना बनाई.

एक सुबह उसने जोर-जोर से चिल्लाना शुरू कर दिया, ‘हाय मैं मर गया मेरा एक हजार दीनार चोरी हो गया’ वह रोने लगा जहाज के कर्मचारियों ने कहा, तुम घबराते क्यों हो जिसने चोरी की होगी वो अभी यहीं होगा हम एक-एक की तलाशी लेते हैं वह पकड़ा जाएगा.

जहाज के कर्मचारियों ने सभी यात्रियों की तलाशी लेना शुरू करदी जब बुखारी की बारी आई तो जहाज के कर्मचारियों और यात्रियों ने उनसे कहा, अरे साहब आपकी क्या तलाशी ली जाए आप पर तो शक करना ही गुनाह है.

यह सब सुनने के बाद बुखारी ने कहा भाईयों नहीं मेरी भी तलाशी ली जाए क्योंकि जिसके दीनार चोरी हुए है उसके दिल में शक बना रहेगा की इस बुखारी की तलाशी नहीं ली गई तब बुखारी की तलाशी ली गई उनके पास से कुछ नहीं मिला.

दो दिनों के बाद उसी यात्री ने उदास मन से बुखारी से पूछा बुखारी जी आपके पास तो एक हजार दीनार थे, वे कहां गए?

उस यात्री को बुखारी ने मुस्करा कर कहा उन्हें मैंने समुद्र में फेंक दिया तुम जानना चाहते हो क्यों?

क्योंकि मैंने जीवन में दो ही दौलत कमाई थीं-

1: ईमानदारी

2: सच्चाई से लोगों का विश्वास

अगर आज मेरे पास से दीनार बरामद होते और मैं लोगों से कहता कि ये मेरे हैं तो लोग यकीन भी कर लेते लेकिन फिर भी मेरी ईमानदारी और सच्चाई पर लोगों का शक बना रहता तब बुखारी ने बहुत जोर देकर कहा मैं दौलत तो गंवा सकता हूं लेकिन अपनी ईमानदारी और सच्चाई को खोना नहीं चाहता.

Conclusion: दोस्तों भले ही जीवन में कोई भी परेशानी आ जाये हमें अपना धर्य और अपने सिद्धांत के अनुसार ही चलना चाहिए. 

ये inspiration story कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएं ताकि हम आपके लिये और बेहतर बना सके. धन्यवाद 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

For Self Improvement & Motivational Tips Type Your Email ID: