सफलताओं के बीज प्रत्येक के अन्दर हैं

एक ऐसी कहानी achieve everything in life आपके साथ शेयर करने जा रहा हूँ जिसे पढ़ कर आपको भी लगेगा की आपके अपने अंदर भी एक ऐसी शक्ति seeds of success in everyone है

achieve everything in life

Seeds of success in everyone

जिस से में खुद कुछ न कुछ जर्रूर कर सकता हूँ मुझे लगेगा सफलताओं के बीज मेरे भी अन्दर हैं.

लेकिन हमे खुद पता ही नहीं होता है की हम में कितनी क्षमता है किसी काम को करने की या कितनी प्रतिभा है जो हम जान ही नहीं पाते है.

सबसे पहले हमे अपने आप पर self confidence होना चाहिए कोई भी काम करने के लिए एक ऐसा साहस की yes i can do it फिर दुनिया की कोई भी शक्ति आपको सफल होने से नहीं रोक सकती.

वैसे तो कुछ न कुछ योग्यता हर इंसान के अंदर होती है, सफलता के बीज प्रत्येक मानव के अंदर छुपे होते है बस जरूरत है तो उन्हें अंकुरित करने की इसके लिए जो कला आवश्यक है, वह है परिश्रम शीलता और आत्म विश्वास कुछ करने का.

विख्यात अमेरिकी लेखक Ernest Hemingway अर्नेस्ट हैमिग्वे ने साधारण परिवार में जन्म लेकर भी साहित्य सृजन, युद्ध, मुक्के बाजी तीनों क्षेत्र में विरोधी पर सफलता प्राप्त की यह कथन विचार मात्र नहीं है यह एक ऐसा तथ्य है जो उनके निजी जीवन में घटित भी हुआ.

इसी के आधार पर तीनो field में महारत हासिल करने के बाद भी हैमिग्वे की मानसिक सोच एक सिपाही की थी पल-पल भर कठिनाइयों से जूझने को वह प्रतिभा संवर्धन का सबसे बड़ा साधन मानते थे.

वो एक मध्यम वर्गीय परिवार में जन्मे थे फिर भी अन्याय, अत्याचार, शोषण, गरीबी, उत्पीड़न, स्वार्थ घृणा आदि से लड़ना उनका काम था क्योंकि वो जानते थे की उनके अंदर एक ऐसी शक्ति है जो की वो लड़ सकते है.

ये सब जाने ने के बाद उन्होंने अपनी लेखक शैली के बारे में लिखा दुनिया में सबसे कठिन काम है ईमानदारी और सरलता के साथ काम करना.

वो अपने साथ के लोगो को ये बात बताते थे की अपनी अंदर की शक्ति को जानो और अपने साथ गलत होने पर उनका सामना करो, दोस्तों को एक कहानी सुनाया करते थे की हम सबके अंदर एक ऐसी शक्ति है जो हमे सफल बना सकती है.

इस कठिन काम को उन्होंने बखूबी पूरा किया और सबको motivate करते रहते थे उनकी बातो को सुनकर कई लोगो ने अपना पूरा का पूरा life style ही बदल डाला क्योंकि उससे उनको बहुत फायदा हुआ.

सन् 1953 में उन्हें अमेरिका का सबसे बड़ा पुरस्कार पुलिट्जर पुरस्कार तथा 1954 में उन्हें नोबेल पुरस्कार मिला पुरस्कार लेते समय उन्होंने स्पष्ट किया इस तरह की सफलताओं के बीज प्रत्येक के अन्दर हैं बशर्ते वह उन्हें परिश्रम व आत्म विश्वास के बल पर जगाए.

Conclusion: इस कहानी को पढ़कर आप हम कैसे अपनी personality development करे कैसे अपने आपको मोटीवेट करे चलिए हम कुछ help करते है आपकी-

आप अपनी पर्सनालिटी डेवलपमेंट के लिए अपने आप में समय के अनुसार कुछ बदलाव करे और अपने टैलेंट को जाने और अच्छी अच्छी बाते करके अपने आस पास के माहौल को positive बनाये इस से आप खुद तो motivate रहंगे और दूसरे लोग भी आपसे inspiration लेंगे.

ये पोस्ट आपको कैसी लगी हमे कमेंट करके जर्रूर बताये, साथ ही साथ नई पोस्ट अपने ईमेल में लेने के लिए नीचे दिए subscribe बॉक्स में अपने ईमेल डाल कर सब्सक्राइब करे ये बिलकुल फ्री है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

For Self Improvement & Motivational Tips Type Your Email ID: