असफलता से डरना नहीं चाहिए Challenge मानकर सामना करे

सभी के जीवन में एक समय आता है जब बार-बार असफलता देखने को मिलती है तो असफल होने से डर लगने लगता किन्तु हमे डरना नहीं चाहिए failure को चुनौती मानकर उनका सामना करना चाहिए, इस आर्टिकल में आपके साथ बात करेंगे कैसे करे असफलता का सामना.

हैलो दोस्तों नमस्कार, आज ‘सक्सेस इन हिंदी’ उन सभी के लिए एक शानदार लेख लेकर आया है जो आपको बताएगा कि हर इंसान की जिंदगी में असफलता एक चुनौती है और इससे घबराएं नहीं, हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि कैसे असफलता इंसान की जिंदगी के लिए भी उतनी ही जरूरी होती है जितनी की सफलता.

असफलता से डरना नहीं चाहिए

अक्सर लोगों की जिंदगी में पल आता है जब वह सोचता है कि मुझे हर समय असफलता ही क्यों मिलती है, दोस्तों अगर आप इतिहास में जाएं तो आपको ऐसे कई उदाहरण मिलेंगे जो अपने जीवन में कई बार फेल हुए हैं.

लेकिन अंत में उन्हें सफलता जरूर मिली है जब हम बहुत सारे काम करते हैं तो जरूरी नहीं कि हमें हर काम में सफल हों, लेकिन आपको प्रयास करना नहीं छोड़ना चाहिए क्योंकि अगर आप प्रयास करना छोड़ देंगे तो निश्चित रूप से असफल ही हो जाएंगे.

हेनरी फोर्ड

जो बिलियनेर थे और आज वह फोर्ड कंपनी के मालिक हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि वह सफल होने से पहले अपने जीवन में पांच अन्य बिजनेस में असफल हुए थे हो सकता है कि उनकी जगह कोई और होता तो वह कर्ज में डूबने और लगातार फेल होने के कारण हताश हो जाता, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और लगातार प्रयास करते रहे.

थॉमस अल्वा ऐडिसन

विफलता कि बात हो और थॉमस अल्वा ऐडिसन का नाम ना लिया जाए तो काफी हैरानी होगी ये तो सभी जानते हैं कि उन्होंने बल्ब का अविष्कार किया था लेकिन क्या आप जानते हैं कि बल्ब का अविष्कार करने से पहले 1000 बार विफल हुए थे.

अल्बर्ट आइंस्टाइन

जो कि 4 साल की उम्र तक कुछ भी बोल नहीं पाते थे और लोग उन्हें दिमागी रूप से कमजोर मानते थे, लेकिन अंत में उन्होंने सभी को गलत साबित करते हुए अपनी थ्योरी और सिद्धांतों के दम पर दुनिया के सबसे बड़े साइंटिस्ट बने।

अब जरा सोचिए अगर फोर्ट पांच बार असफल होने के बाद निराश हो जाते और प्रयास करना छोड़ देते, एडिसन 999 असफल प्रयोग करने के बाद फिर से कोशिश नहीं करते और आइंस्टाइन भी लोगों के कहने पर खुद को दिमागी रूप से कमजोर मान लेते तो क्या वह वो कर पाते जो उन्होंने करके दिखाया.

तो दोस्तों कुछ भी करने से पहले अगर आप ये सोच रहे हैं कि पहली बार में ही आपको सफलता मिल जाएगी तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं होने वाला आज सभी लोग अपने भाग्य को कोसते हैं और कहते हैं कि छोड़ो यार यह हमारी किस्मत में ही नहीं है.

लेकिन अगर ऐसा ही आइंस्टाइन, एडिसन और फोर्ड ने भी सोचा होता, तो क्या वे ऐसा कर पाते… बिल्कुल भी नहीं।

इसलिए सफलता का सिर्फ एक ही मंत्र है कि आप असफलता से घबराएं नहीं और लगातार प्रयास करते रहें किसी ने क्या खू कहा है, ”सोच को बदलो सितारे बदल जाएंगे, नजर को बदलो नजारे बदल जाएंगे, जरूरत नहीं है किश्ती बदलने की दिशाओं को बदलो किनारे बदल जाएंगे”.

अर्थात अगर आपको किसी काम में बार-बार असफलता मिल रही है तो जरूरी नहीं है कि आप अपने उस काम को ही छोड़ने का फैसला कर लें, बल्कि आपको अपनी सोच को बदलना होगा, अपने तरीके को बदलना होगा.

कभी- कभी हम जब सफलता की राह पर अग्रसर होते हैं तो कुछ नकारात्मक बातें हमारे सामने आतीं हैं, अगर हम उन बातों पर ध्यान न देकर सिर्फ अपने लक्ष्य के बारे में सोचते हैं तो हमें सफलता जरूर मिलती है.

ये भी सच्चाई है कि जब आप सफलता की सीढ़ी चढ़ने लगते हैं तो कई लोग आपको आपके लक्ष्यों से भटका सकते हैं, आपको गुमराह करने की सोच सकते हैं आपको उस समय सावधान रहने की जरूरत होती है.

अगर कोई आपको और आपके बर्ताव को पसंद नहीं करता तो यह समझ लें की वह व्यक्ति आपसे जलता है कोशिश करिए कि आप ऐसे लोगों से दूरी बनाएं यह भी संभव है कि कई लोग आपकी आलोचना करें लेकिन आपको उन पर ध्यान ना देते हुए आपको अपने लक्ष्य की ओर ध्यान देना चाहिए.

अगर आपने इन लोगो की बातों पर अमल करते हैं तो, समझ लें की आपको सफल होने से कोई भी नहीं रोक सकता तो आज के लिए बस इतना ही हम एक बार फिर से आपसे रूबरू होंगे एक नए विषय के साथ. धन्यवाद!

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.