Sitemap क्या है – कैसे बनाते है और Submit कैसे करें ?

नमस्कार दोस्तों, आज इस पोस्ट में सीखेंगे Sitemap क्या है – कैसे बनाते है और Submit कैसे करें, साइटमैप क्या है और इसका उद्देश्य क्या है, साइटमैप कितने प्रकार के होते हैं, साइटमैप कैसे बनाया जाता है, साइटमैप कैसा दिखता है, Sitemap को Google में कैसे Submit करते हैं.

यदि आपको भी इस तरह के प्रश्न परेशान कर रहे है तो आप बिल्कुल निश्चिंत हो जाइये, क्योकि में आपको इस पोस्ट में इन्ही सभी सवालों के जबाब देने वाला हूँ जिन्हे जानने के बाद आप खुद कभी भी गूगल सर्च इंजन पर आकर ये सर्च नहीं करेंगे Sitemap क्या है – कैसे बनाते है और Submit कैसे करें.

जो ब्लॉगर पुराने हो चुके हैं उनको Sitemap का खेल समझ आता हैं किन्तु जब कोई भी नया ब्लॉगर होता हैं तो उसके लिए ये सब समझना थोड़ा मुश्किल होता हैं, यदि आप नये ब्लॉगर हैं और आपने अभी-अभी अपना ब्लॉग स्टार्ट किया हैं तो Sitemap क्या होता हैं ये जानना बहुत जरुरी हैं तो चलिए शुरू करते हैं और सीखतें हैं Sitemap क्या है – कैसे बनाते है और Submit कैसे करें.

How to Start a Blog in Hindi

Sitemap क्या है ?

दोस्तों, Sitemap आपके ब्लॉग, वेबसाइट का ढांचा होता हैं एक फाइल होती हैं जिसके अंदर आपके ब्लॉग और वेबसाइट के Pages का कलेक्शन होता हैं, मान लीजिए आपकी वेबसाइट पर बहुत सारें Page हैं उन सबकी जानकारी, वीडियो फाइल की जानकारी Sitemap के द्वारा सर्च इंजन को बताई जाती हैं.

में आपके लिए इसको आसान कर देता हूँ, मान लीजिये जब आप बीमार होते हैं और किसी भी डॉक्टर के पास जाते हैं तो कभी-कभी ऐसा होता हैं उसको कुछ समझ नहीं आता हैं की आपको प्रॉब्लम क्या हैं. इसका मतलब हैं वो आपकी बीमारी को पकड़ नहीं पा रहा हैं और जब ऐसी कंडीशन बनती हैं जो एक्सपीरियंस Doctor होते हैं तो वो जरुरी जाँच करने के लिए बोलते हैं.

कई बारी डॉक्टर आपको बिना जाँच के ही दवाई दे देता हैं जिससे आपको आराम के बजाये नुकसान होता हैं… कुछ आया समझ में की क्या हुआ…?

में बताता हूँ पहले वाला डॉक्टर जिसने आपको देखने के बाद जरुरी जाँच कराई थी वो बिल्कुल सही स्टेप था क्योकि आपको क्या बीमारी हैं ये डॉक्टर पता नहीं कर पाया इसीलिए उसने जाँच में X-RAY कराया जिसमे उसे पता चल जाता हैं की आपकी बॉडी में कहाँ-कहाँ प्रॉब्लम हैं.

ठीक उसी तरह Google बाबा इंटरनेट के डॉक्टर हैं और आपका ब्लॉग वेबसाइट मरीज हैं Sitemap आपके ब्लॉग का X-RAY हैं. अब शायद आपको समझ आया होगा. जब गूगल के स्पाइडर Crawler को ये पता नहीं चलता हैं की आपकी वेबसाइट में कौन से पेज कहाँ-कहाँ लिंक हैं. इन्ही बजह का पता लगाने के लिए Sitemap हेल्प करता हैं जिससे आपकी वेबसाइट को Organic Rank करने में मदद मिलती हैं, Sitemap क्या है – कैसे बनाते है और Submit कैसे करें.

साइटमैप की कब जरुरत होती हैं और कब नहीं

यदि आपके ब्लॉग वेबसाइट में बहुत सारें Pages हैं और आप अपनी पोस्ट को निरंतर अपडेट करते रहते हैं, इस कंडीशन में सर्च इंजन के Web Crawler को आसानी से पता नहीं चलता हैं कि वेबसाइट में कौन से पेज में अपडेट किया गया हैं. इस प्रॉब्लम का समाधान करने के लिए Sitemap बनाना बेहद जरुरी हैं.

Blogging Tips for Beginners in Hindi

एक मामला ये भी हो सकता हैं, मौजूदा वेबसाइट में बहुत सारें Pages हैं और उनकी ठीक तरह से एक दूसरे के साथ लिंकिंग नहीं हैं तो इस केस में भी Sitemap बहुत जरुरी हैं. इससे Search Engine का Crawler आपके Pages को Crawler करने से नहीं छोड़ेगा.

यदि आपकी वेबसाइट बहुत बड़ी हैं, बहुत सारें वीडियो और इमेजेज आपकी वेबसाइट पर उपलोडेड हैं और साथ ही साथ आपकी वेबसाइट Google News में भी आती हैं तो इस मामले में भी Search Engine Crawler साइटमैप कि मदद लेता हैं.

आपके ब्लॉग वेबसाइट में बहुत ज्यादा Pages नहीं हैं कम ही पेज हैं तो आपको Sitemap कि कोई ज्यादा जरुरत नहीं हैं. Sitemap क्या है – कैसे बनाते है और Submit कैसे करें.

एक मामला ये भी हो सकता हैं जिसमे आपको Sitemap कि जरुरत ना पड़े, यदि आपके Blog वेबसाइट में मौजूद पेज एक-दूसरे से लिंक किए गए हैं. इसका मतलब है कि अगर Crawler आपकी साइट को होम पेज से क्रॉल करना शुरू करेगा, तो उसे साइट के सभी अहम पेजों के लिंक मिल जाएंगे.

क्या मेरे Blog Website को साइटमैप की ज़रूरत है?

आपकी जानकारी के लिए बता दूँ, यदि आपकी वेबसाइट Blog WordPress या Wix व Blogger जैसे प्लेटफार्म बना हैं तो आपका प्लेटफार्म मैनेजमेंट सिस्टम आपके ब्लॉग कॉन्टेंट का Sitemap पहले से ही सर्च इंजन को उपलब्ध करा सकता हैं जिसके बाद आपको इस पर अपना टाइम लगाने कि जरुरत नहीं होगी.

ब्लॉगिंग में ये 11 गलतियाँ कभी भी ना करें

यदि आपकी वेबसाइट के पेज ठीक तरह से आपस में लिंक किए गए हैं, तो Web Crawler आम तौर पर आपकी साइट के ज़्यादातर हिस्से खोज सकता है. साइटमैप, आपकी साइट पर URL खोजने में सर्च इंजन की मदद करता है. Sitemap क्या है – कैसे बनाते है और Submit कैसे करें.

साइटमैप के फॉर्मेट

HTML Sitemap
XML Sitemap

HTML Sitemap – HTML एक ऐसा साइटमैप होता हैं जो किसी भी ब्लॉग और वेबसाइट का बाहरी रूप होता हैं ऐसा कह सकते हैं. HTML साइटमैप Specially Users के Experience के लिए बनाया जाता हैं. जिससे आपके ब्लॉग और वेबसाइट पर आने वाले यूजर को आसानी से Navigate करा जा सकें.

XML Sitemap – XML Sitemap ऊपर बताये HTML Sitemap से बिल्कुल अलग होता हैं जहाँ एक और में बात करू तो HTML साइटमैप से यूजर आपकी वेबसाइट के नेविगेशन को सकझ सकता हैं. वही दूसरी और XML Sitemap सर्च इंजन के Web Crawler के लिए बनाया जाता हैं जिससे सर्च इंजन आपकी वेबसाइट को समझ सकें

दोनों ही फॉर्मेट में साइटमैप का साइज़ 50 MB (बिना कंप्रेस किए) से अधिक नहीं होना चाहिए. उसमें URL मतलब Pages कि कुल संख्या 50,000 से ज़्यादा नहीं होनी चाहिए. यदि आपकी वेबसाइट बहुत बड़ी हैं, तो आपको अपनी सूची को कई साइटमैप में बांटना होगा. आपको केटेगरी वाइज Sitemap बनाना होगा.

Manual तरीके से साइटमैप कैसे बनाते हैं

जिन वेबसाइट में कम पेज होते हैं उनके लिए मैन्युअल तरीके से साइटमैप बनाया जा सकता है मैन्युअल तरीके से साइटमैप बनाने के लिए Windows नोटपैड कि हेल्प ली जा सकती हैं.

Automatic साइटमैप कैसे बनायें

यदि आपका ब्लॉग वेबसाइट WordPress प्लेटफार्म पर बना हैं तो में आपको रैंकमैथ Plugin का सुझाव दूंगा, आप सिंपल Install करें फिर Sitemap का सारा काम Automatic ये प्लगइन करेगा.

ब्लॉगिंग के लिए कौनसा प्लेटफार्म अच्छा है WordPress या Blogger

Google को अपना साइटमैप कैसे Submit करें

Google Search Console में अपनी Gmail ID से लॉगिन हो जाये और साइटमैप वाले सेक्शन पर जाकर अपना Sitemap सबमिट करें. इससे आपको यह देखने में मदद मिलेगी कि Crawler ने साइटमैप को कब ऐक्सेस किया.

यह पोस्ट, Sitemap क्या है – कैसे बनाते है और Submit कैसे करें आपको कैसी लगी मुझे कमेंट करके जरूर बताएं.

धन्यवाद

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.